हो जाए सावधान आपके यूरिन का कलर ऐसा तो नहीं

1351
Loading...

पोरफाइरिया यानी आपके यूरिन का रंग नीला या हरा हो जाना, एक तरह की जैनेटिक गड़बड़ होती हैं जो बहुत कम पाई जाती हैं लेकिन आजकल की दिनचर्या और खानपान के कारण लोगो में यह समस्या आम होती जा रही हैं आपके शरीर में होने वाले कैमिकल डिसऑर्डर की वजह से पोरफाइरिन बनता है.

पोरफाइरिन क्या हैं 

पोरफाइरिन हीमोग्लोबिन के लिए जरूरी होता है जो आपकी रेड ब्लड सेल्स से जुड़ा होता है, पोरफआइरिन की उच्च मात्रा आपके नर्वस सिस्टम, त्वचा समेत अन्य अंगो को प्रभावित कर सकती है. इसीलिए इसके सामान्य रहना बहुत ज़्यादा ज़रूरी होता हैं. बेहतर तो होता हैं की आप इसके इलाज के लिए तुरंत डॉक्टरों से संपर्क करे.

आजकल यूरिन से सम्बंधित लोगो में बीमारियां बढ़ती जा रहे हैं जिसका मुख्य कारण हैं हमारा अस्त व्यस्त जीवन, पेशाब से जुडी कई बीमारियां आये दिन सामने आती रहती नहीं, जिसमे से एक हैं पोरफाइरिया इस रोग के कारण लोगो को कई प्रकार की परेशानियां हो जाती हैं वैसे तो यह बिमारी आम नहीं हैं लेकिन यह कभी भी किसी को भी हो सकती नहीं इसके लिए आपको इससे बचना बहुत ज़रूरी हैं इसके लिए आपको इन टिप्स को ध्यान में रखना होगा.

पोरफाइरिया से बचने के उपाय:

यहाँ हम आपको बताएंगे उन उपायो के बारे जो आपको पोरफाइरिया बिमारी से बचने में सहायक होंगे, इसके लिए आपको अपनी दिन चर्या और खान-पान का ख़ास ध्यान रखना बहुत ज़्यादा ज़रूरी होता हैं, जाने किस प्रकार आपको यह चीज़े बचाएंगी पोरफाइरिया रोग से.

बहुत ज़्यादा धूप में ना जाये:

Advertisement
Loading...

इस रोग से बचने के लिए आपको बहुत ज़्यादा ज़रूरी हैं की आप धूप से बचे इससे आपको इस रोग के होने के ज़्यादा चान्सेस होते हैं पोरफाइरिया से बचने के लिए धूप के संपर्क में कम आना चाहिए, इसकी वजह से गंभीर परिणाम हो सकते है.

इसके लिए आपको ज़रूरी हैं की आप इन प्रीकॉशन्स का ध्यान रखे, धूप में आने से पहले पूरे कपड़े पहने, सनग्लासेस लगाए, आप एंटीऑक्सीडेंट जैसे कैराटीनॉइड्स, बीटा कैरोटीन आदि का सेवन कर सकते है. जो आपके शरीर में धूप की किऱणें को झेलने की झमता को बढ़ाने में मदद करता है.

हालांकि ये काफी ही होता है, इसके अलावा आपको इससे बचने के लिए आप एलोविरा जे, ओटमील-दूध पैक आदि लगा सकते है, विटामिन डी लेना भी त्वचा को सूरज की किऱणों से बचाने में मदद करता है.

आपकी दिनचर्या ऐसी हो:

इससे बचने के लिए आपको अपनी दिनचर्या का ख़ास ध्यान रखना चाहिए ज़रूरी हैं की आप टाइम से सोये और टाइम से उठे इसके अलावा आपको अपने खानपान का ख़ास ध्यान रखना चाहिए, नियमित रूप से एक्सरसाइज करना चाहिए आप चाहे तो योग वा मेडिटेशन का सहारा भी ले सकते हैं. इससे आप तंदरुस्त रहेंगे और आपको इस प्रकार की जकोई समस्या नहीं होगी.

संतुलित आहार बहुत जरूरी:

इस रोग से बचने के लिए आपका आहार भी पोषणयुक्त होना चाहिए कई बार यह रोग खराब खाना-पान के कारण भी हो जाता हैं पोरफाइरिया से बचने के लिए संतुलित आहार बहुत जरूरी है, इसके अलावा जंक फूड खाने से बचे. आहार में हेल्दी फैट शामिल करे.

आपको उच्च एंटीऑक्सीडेट से युक्त हरी सब्जिया व फलों का सेवन करना चाहिए संतुलित भोजन में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए जिनमें विटामिन, मिनरल, और पोषक तत्व उच्च मात्रा में हों और वसा तथा शुगर कम मात्रा में हो, यह चीज़े खानी चाहिए जैसे साबुत अनाज, जैसे दलिया साबुत दालें भी रोजाना खानी चाहिए, उच्च कैलोरी वाले खाने से परहेज करना चाहिए.

धूम्रपान ना करें:

धूम्रपान कई रोगों का कारक होता हैं इसीलिए इस बिमारी से बचने के लिए आपको धूम्रपान करना छोड़ना होगा क्योंकि सिगरेट पीना या फिर उच्च मात्रा में ड्रग्स लेना शराब पीना आदि पोरफाइरिया को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं.

पैकेटबंद आहार ना खाये:

इसके अलावा कुछ तरह के कैमिकलयुक्त पैकेटबंद आहारों का सेवन भी इसको बढ़ा सकते है. इसमें मौजूद कठोर ज़हर पेट के अस्तर को क्षतिग्रस्‍त कर देता है और पाचन एंजाइमों को ठीक से काम नहीं करने देता. जिसकी वजह से शरीर के बाकी अंग ठीक से काम नहीं कर पाते हैं ये ब्लडप्रेशर को बढ़ा भी सकता है, और इसके कारण आपको पोरफाइरिया रोग भी हो सकता हैं.

तनाव से दूर रहें:

आजकल तनाव तो जैसे हमारे जीवन का हिस्सा बन गया हैं इस रोग का एक कारण हमारा तनाव भी हो सकता हैं, किसी भी तरह का तनाव आपकी सेहत के लिए अच्छा नहीं रहता है. ये बात पोरफाइरिया पर भी लागू होती है.

इसकी वजह से नींद ना आने की समस्या हो सकती है, तनाव अवसाद को बढ़ावा देता है. इसको दूर करने के लिए आप मेडिटेशन आदि का सहारा ले सकते है, खुश रहने की कोशिश करनी चाहिए और लोगो से अपने मन की बात कहनी चाहिए अपने आप से अच्छा व्यवहार करें और कभी-कभार खुद को ‘पैम्पर’ भी करें. अपना ख्याल रखे और आराम करने के लिए भी पर्याप्त समय बचा कर रखें. इससे आपका तनाव दूर हो सकता हैं जो की आपको इस रोग का रोगी होने से बचाएगा.

porphyria is disease related to the urine, in this disease urine colour becomes green and blue for that here we are giving you some home remedies for this disease.

web-title: porphyria is a urine disease and its home remedy

keywords: porphyria, urine disease, symptoms, home, remedy

 

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here