मसूड़ो का दर्द अब नहीं करेगा आपको बेहाल

1447
Loading...

अक्सर लोग मसूड़े में दर्द की शिकायत करते हैं, ऐसा इसीलिए होता हैं जब मसूड़ो में सूजन आ जाती हैं या अन्य कोई मुह से सम्बंधित पस्रेशानी होती हैं, इसका मुख्य रीज़न हैं मुह की सही तरह से साफ सफाई ना करना जब आप अपने जीभ की और दांतो की सफाई सही प्रकार से नहीं करते हैं तो आपको मसूड़ो से सम्बंधित या दांतो से सम्बंधित दिक्कटई का सामना करना पड़ता हैं जो की आपके लिए काफी तकलीफ देह हो जाता हैं.

अगर आपके मसूड़ो में दर्द होता हैं या आप किसी प्रकार की मसूड़ो की समस्या से पीड़ित हैं या ऐसी कोई समस्या हैं तो यहाँ हम आपको बताएँगे के किस प्रकार आप अपनी इस समस्या को कर सकते हैं खत्म वो भी प्राकृतिक तरीके से.

मसूड़े की समस्या के लिए अपनाये यह घरेलू नुस्खे:

लौंग का तेल:

लौंग या लौंग का तेल हमारी दांतो के लिए बहुत फायदेमंद हैं, दांतो की सफेदी से ले कर दांतो की अन्य समस्या के लिए हम लौंग के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं, इसका एनलजेसिक और एन्टी-इंफ्लैमटोरी गुण मूसड़ों के दर्द से आराम दिलाने में भी मदद करता है, रूई के गोले में लौंग का तेल लगाकर दर्द वाले जगह पर कुछ देर के लिए रखें इससे आपको जल्द आराम मिलेगा. और आप अपने दर्द से जल्दी ही छुटकारा मिल सकता हैं.

एलोवेरा का इस्तेमाल:

एलोवेरा का इस्तेमाल आप अपनी त्वचा या हेल्थ संबंधी समस्या के लिए करते हैं, इसी प्रकार अगर आप एलोवेरा का इस्तेमाल मसूड़ो की समस्या के लिए भी कर सकते हैं, इसके उपचारात्मक गुणों के कारण मसूड़ों के सूजन को कम करने में बहुत मदद करता है, आप एलोवेरा जेल को माउथवाश के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं. जिससे आपके मसूड़े मज़बूत बनेगे.

Advertisement
Loading...

aloe-vera-in-hindi-2-633x319

मुलैठी का सेवन:

मुलैठी में बैक्टिरीयल इंफेक्शन होने के संभावना को कम करके मसूड़ों के दर्द से राहत दिलाने में मदद करती है, मसूड़ो में दर्द मुख्य गंदगी के कारण होता हैं, मुह में पाए जाने वाले बैक्टेरियास जब एक्टिव हो जाते हैं तो यह दर्द का कारण बना जाते हैं, क्योंकि मुलैठी एन्टी कैविटी एक्शन, एन्टी बैक्टिरीयल इफेक्ट के कारण प्लाक होने के खतरे को कम करने के साथ-साथ दर्द के संभावना को कम करती है.

मुलैठी को चबाने से ना सिर्फ मुँह साफ रहता है बल्कि दांत की देख-रेख होने के साथ-साथ और मसूड़ो के इंफेक्शन होने की संभावना कम हो जाती है, जिससे कई फायदे होते हैं और यह दर्द को भी तेज़ी से कम करता हैं.

नीम का सेवन:

नीम का सेवन हमारे दांतो के लिए कितना फायदेमंद हैं यह तो सभी जानते नहीं तभी आजकल टूथपेस्ट में नीम का इस्तेमाल जोरू पर किया जा रहा हैं, क्योंकि नीम में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो बैक्टेरियास को खत्म करने में मदद करते हैं.

नीम नैचुरल माउथवाश के रूप में काम करता है, जो मसूड़ो के सूजन, दर्द और जिंजिवाइटिस के खतरे को कम करने में पूरी तरह से सहायता करता है. इससे बैक्टिरीयल इंफेक्शन होने का खतरा कम होने के कारण ओरल प्रॉब्लम होने की संभावना भी कम हो जाती है. और बाकी जो भी ओरल प्रोब्लेम्स होती हैं उन्हें पूरी तरह से दूर करने में सक्षम भी होता हैं.

करे नमक का सेवन:

हर घर में नमक का सेवन तो किया ही जाता हैं लेकिन क्या आपको पता हैं की मसूड़े के दर्द के लिए भी इसका सेवन किया जाता हैं ,अपने हल्के हाथों से नमक को लेकर मसूड़ों पर अच्छी तरह से मलें. इसके बाद गुनगुने पानी से धो ले, आपको काफी आराम महसूस होने लगेगा.

हल्दी का इस्तेमाल:

हल्दी में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण हमारे मसूड़े के लिये बहुत फायदेमंद होते हैं, ये घाव,दर्द, त्वचा जैसी समस्याओं को दूर करने के साथ दांतो की सूजन को कम करने और होने वाले दर्द से राहत दिलाने का काम भी करती है.

अंजीर का इस्तेमाल:

अंजीर को या उससे बने पाउडर में नमक और आलिव ऑयल की एक-दो बूँद मिलाकर बनाये गये मिश्रण को मुंह में लगाने से दातों का दर्द,सड़न और मंसूड़ों के दर्द से राहत मिलती है, इससे आपको बहुत आराम मिलेगा.

if you are dealing with gums problems here is the solution for it, apply all these home remedies that will give you relief from gums problems

web-title: home remedies for gums problems

keywords: gums problems, causes, home, remedies, tips

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here