जाने इस खतरनाक स्किन डिज़ीज़ इम्‍पेटिगो के बारे और इसके उपचार

532
Loading...

इम्‍पेटिगो एक बहुत ही भयंकर संक्रामक रोग हैं जो एक प्रकार का त्‍वचा संकमण है, जो आमतौर पर चेहरे, गर्दन, हाथ और पैर पर होता है. हल्‍के मामलों का इलाज साफ-सफाई का ध्‍यान रखकर या घरेलू उपचार के साथ किया जा सकता है, आइए इस इम्पेटिगो के घरेलू उपायों के बारे में जानकारी देते हैं. यह बिमारी आमतौर पर चेहरे, गर्दन, हाथ और पैर पर होता है, आमतौर पर यह समस्‍या दो प्रकार के बैक्‍टीरिया यानी स्ट्रेप्टोकोकस प्योगेनेस और स्‍टेफाइलोकोकस के कारण होती हैं.

वैसे तो यह समस्‍या किसी को भी हो सकती है, लेकिन छोटे बच्‍चों और शिशुओं में यह बहुत ही आम है, अन्‍य जोखिम कारकों में स्‍वच्‍छता की कमी, गर्म मौसम और अन्‍य प्रकार के त्‍वचा संक्रमण, सूजन, डायबिटीज, कमजोर इम्‍यूनिटी शामिल है, इससे कई प्रकार की दिक्कते हो सकती नहीं, जिसके कारण आपकी त्वचा को कई प्रकार के नुक्सान होते हैं.

इम्पेटिगो, त्वचा रोग के लक्षण:

इसके कुछ लक्षण इस प्रकार से दिए गए हैं.

हालांकि आम लक्षणों में लाल चकत्‍ते,
तरल पदार्थ से भरे छाले,
प्रभावित क्षेत्र में खुजली
प्रभावित हिस्‍से पर खरोंच
त्वचा पर घाव
सूजन लिम्‍फ नोड्स शामिल है, यह हैं कुछ लक्षण जिससे आपको पता चलेगा की आप इस रोग से पीड़ित हैं.

इसका उपाय:

इस संक्रामक रोग के लिए आप चाहे तो इन घरेलू नुस्खों का उपयोग कर सकते हैं, कुछ घरेलू नुस्खे इस प्रकार से दिए गए हैं.

Advertisement
Loading...

सफ़ेद सिरके का उपयोग:

त्वचा के लिए सबसे ज़्यादा ज़रूरी हैं उसका साफ़ रहना अगर आप अपनी त्वचा की साफ़ सफाई नहीं करते हैं तो आपको किसी न किसी प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ेगा, त्वचा की सफाई के लिए लोग कई प्रकार के एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आप चाहे तो सफेद सिरके के इस्‍तेमाल से खुद का एंटीबायोटिक मिश्रण तैयार कर सकते हैं, यह संक्रमण को फैलने से रोकने के साथ संक्रमित हिस्‍से को सूखने में मदद करता हैं, इससे आप इस बिमारी से बच सकते हैं.

इस प्रकार तयार करे इसे एंटीबायोटिक मिश्रण को:

इसके लिए आपको एक कप गुनगुने पानी में एक चम्‍मच सफेद सिरका मिला लें,फिर कपड़े के उपयोग से मिश्रण को संक्रमित त्‍वचा को धो लें, फिर त्‍वचा को ड्राई करके, ओवर-द-काउंटर एंटीबायोटिक क्रीम लगाये.हल्‍के से गॉज की मदद से संक्रमित हिस्‍से को कवर करें, इस उपाय को संक्रमण दूर होने तक दिन में 2 या 3 बार करें. लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना होपग की प्रभावित हिस्से को बहुत ज़्यादा रगड़े नहीं.

टी ट्री तेल:

टी ट्री तेल हमारी त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता हैं, लेकिन इसका इस्तेमाल किस प्रकार करना हैं आईये बताते हैं, टी ट्री ऑयल ऑयल की कुछ बूंदों को एक चम्‍मच ऑलिव ऑयल में मिला लें. इस मिश्रण को प्रभावित हिस्‍से पर अच्‍छी तरह से लगा लें फिर इसे 20 से 30 मिनट के लिए ऐसे ही लगा रहने दें, फिर इसे गुनगुने पानी से साफ कर लें. कुछ दिनों तक इस उपाय को नियमित रूप से 2 से 3 बार करें. इससे आप इस रोग से सुरक्षित रह सकेंगे.

इसके अलावा आपको इस बात का ध्यान रखना होगा की आप इसका इस्तेमाल ओरल रूप में ना करे इसका एक्सटर्नल ही इस्तेमाल करे.

लहसुन का इस्तेमाल:

लहसुन कई प्रकार के रोगों के लिए बहुत सहायक हैं, इसमें मौजूद प्राकृतिक एंटीबायोटिक गुण बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते है. साथ ही यह खुजली और दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करता है. इस त्वचा संक्रमण से लड़ने के लिए भी आप इस नुस्खे का इस्तेमाल कर सकते हैं, 2 चम्‍मच तिल के तेल में लहसुन की 2 से 3 कली कुचलकर जला लें. फिर इस तेल को ठंडा होने दें, कुछ दिनों के लिए इसे नियमित रूप से प्रभावित त्‍वचा पर दिन में दो बार लगाये. आप चाहे तो इसमें कच्‍चे लहसुन की कुछ कली को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं या इसे नहर मुह भी खा सकते हैं इससे आपको इस समस्या से छुटकारा मिलेगा.

impetigo is a skin disease caused by bacteria that is why this is an infectious disease.

web-title: home remedies for impetigo skin disease

keywords: impetigo, symptoms, home, remedies, causes

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here