यहाँ पढ़े उन टीको के बारे में जो आपके बच्चो को दूर रखे बिमारियों से.

490
Loading...

बच्चो को ख़ास देखबाल की ज़रूरत होती हैं ये तो सभी जानते हैं. बच्चो की देखभाल के लिए उनके माता पिता कोई कसर हीं छोड़ते हैं, लेकिन उनकी देखभाल किस तरह से और अच्छी की जा सकती है इस बात की जानकारी होना आवश्यक होता हैं.

बच्चो में जन्मजात कुछ बिमारियों से लड़ने की शक्ति उन्हें उनके जन्म के समाये उनकी माँ की एंटीबॉडी नाल से मिली हुई एंटीबाडीज से होती हैं. बच्चे कुछ समय तक माँ के दूध से भी अबटीबोडीज़ ग्रहण करते रहते हैं. लेकिन ये एंटीबॉडीज ज़्यादा समय तक इन्फेक्शन्स से नहीं लड़ सकती हैं.

इन्ही इन्फेक्शन्स और कई अन्य प्रकार की बिमारियों से बचने के लिए कई प्रकार के टीके लगाए जाते हैं, जो बच्चो को कई बिमारियों से जीवन भर बचाते हैं. लेकिन इन टीको की सही जानकारी होना अति आवश्यक हैं. यहाँ हम आपको बच्चो के लिए कुछ मतवपूर्ण टीको के बारे में बताएंगे. जो इस प्रकार हैं:

बीसीजी का टीका:
यह टीका नवजात शिशु को अंतर्त्वचीय इंजेक्शन के रूप में फ़ौरन पैदा होते हे लगाया जाता हैं. यह टीका बच्चो को टीबी से बचने के लिए लगाया जाता हैं.

डीपीटी का टीका:
डीपीटी का टीका डिफ्थीरिया, परट्यूसिस और टिटनेस से बचाओ के लिए बच्चो को लगाया जाता हैं. डिफ्थीरिया के शुरुआत गले की खराश से होती हैं लेकिन ये आगे जा के ये जीवन की जटिलताओं को बढ़ सकता हैं. परट्यूसिस का मतलब होता हैं काली खासी जो फेपड़ों को इन्फेक्ट कर सकता हैं ओरर टिटनेस से घाव जल्दी नहीं भरते हैं. ये भी एक प्रकार का अंतर्त्वचीय इंजेक्शन होता हैं.

screenshot_9

खसरे का टीका :
खसरे का टीका बचनों को लगाना अति आवश्यक होता हैं. खसरा एक प्रकार का संक्रामक वायरल होता हैं जिसमे छोटे दाने निकल आते हैं ओरर बुखार चढ़ जाता हैं ये बच्चे को नावे महीने में दिया जाता हैं.

हेपेटाइटिस बी का टीका:
ये बच्चो को जॉन्डिस से बचत हैं हेपिटाइटिस बी एक बेहद हे जटिल बिमारी ये जॉन्डिस का भयानक रूप होती हैं. हेपेटाइटिस एक प्रकार का सनक्रमक वायरल है जो लिवर को बुरी तरह से नुक्सान पहुँचाता हैं ये टीका अलग अलग समय पर तीन शॉट्स की श्रृंखला में दी जाती हैं.

चिकनपॉक्स का टीका:
यह टीका चिकनपॉक्स से बचाता हैं, यह दो डोज़ेज़ में दिया जाने वाला टीका हैं पहला डोज़ बच्चो को १२ से १५ महीने के बेच में दिया जाता हैं और दूसरा डोज़ ४ से ६ साल के बीच में दिया जाता हैं.

ऍमऍमआर का टीका:
एमएमआर का टीका बच्चो को खसरा, टोंसिल्स और रूबेला से बचाता हैं.

इन्फ्लुएंजा का टीका:
इन्फ्लुएंजा श्वसन प्रणाली को नुक्सान पहुँचता हैं, जिसमे बच्चो को सांस लेने में परेशानी होती हैं. ये टीका बच्चो में ४ से ६ के बीच लगता हैं.

रोटा वायरस का टीका:
ये टीका आंत्रशोथ और दस्त से बचाता हैं, बच्चो को ये टीका रोटावाइरस इन्फेक्शन से बचने के लिए दिया जाता हैं.

हिब का टीका
हिब का टीका बच्चो को मस्तिष्कावरण शोथ, से बचाता हैं इसके कारण बच्चो के ब्रेन को और इनकी स्पाइनल कॉर्ड को नुक्सान पहुँचता हैं. यह टीका चार डोज़ में दिया जाता हैं. पहला दो महीने में और दूसरा १२ महीने में दिया जाता हैं.

ये कुछ महत्वपूर्ण टीके होते हैं जिनके बारे में हर माता पिता को जानकारी होना चाहिए. ये सारी ही बीमारिया बहुत खतरनाक होती हैं, जिनसे बच्चो की ज़िन्दगी बर्बाद होने का खतरा होता हैं , हर माता पिता अपने बच्चो को सेहतमंद देखना चाहते हैं अगर आप भी अपने बच्चो को सेहतमंद देखना चाहते हैं तो इन सभी टीको को डॉक्टर के परामर्श से लगवाए और अपने बच्चे को स्वस्थ जीवन दें.

Web-title: some important vaccines that protects your child from many diseases.

Keywords: vaccines, infant, toddlers, information, suggestions.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here