मॉसक्विटो रेपेलेंट और कोइल जलाना हो सकता हैं जानलेवा

638
Loading...

mosquito-coilमच्छर के काटने से आजकल कई प्रकार की संक्रमित बिमारियां फ़ैल रही हैं जिसके प्रभाव को अभी आप डेंगू , चिकनगुनिया के रूप में देख चुके हैं अभी इसका प्रभाव पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ हैं , मच्छर हर मौसम में होते हैं, और इनसे बचने के लिए हम कई प्रकार की दवाईयां या मॉसक्विटो रेपेलेंट का उपयोग करते हैं, जो हमारी सेहत को बहुत ज़्यादा नुक्सान पहुँचाते हैं, इनसे निकलने वाला केमिकल हमारी सेहत के लिए नुक्सान देह होता हैं, यह हमारे फेफड़ो को भी नुक्सान पहुँचाता हैं.

मॉसक्विटो रेपेलेंट और कोइल से होने वाले नुक्सान:

मच्छरों को मारने या भगाने के लिए या इन्हें भगाने के लिए हम मॉसक्विटो रेपेलेंट का उपयोग 12 महीने करते हैं, लेकिन इनसे सेहत को बहुत नुक्सान होते हैं, फेफड़ो को नुक्सान पहुँचता है, शिशुओ के लिए नुकसानदेह होता है, जिन्हें सास की दिक्कत होती हैं उन्हें और ज़्यादा परेशानी होने लगती हैं, इसके लकवा इसके बहुत ज़्यादा रिसाव से या कोइल से लोग का दम भी घुट जाता हैं. जिससे मौते भी हो जाती हैं हम अक्सर इसके बारे पढ़ते हैं. इस प्रकार यह हमारी सेहत के लिए जानलेवा भी हो सकता हैं.

मच्छर को भागने के लिए जिस कोइल का हम इस्तेमाल करते हैं, वो 100 सिगरेट के बराबर हमारे लिए नुक्सान देह होता हैं, यह तो आप सभी जानते हैं . लेकिन अगर हम इन्हें भागने के लिए और मारने के लिए प्राकृतिक उपाय करे तो बगैर किसी सेहत के नुक्सान के हमे इनसे छुटकारा भी मिलेगा और हम बीमारियों से बच भी जाएंगे.

nat

मच्छरों को मारने के प्राकृतिक उपाय:

करे कोयले का इस्तेमाल:

सर्दियों में इनका इस्तेमाल ज़ोरो पर होता हैं, इसके लिए हम कोयले को जला कर उसमे नारंगी के छिलके दाल दो उससे जो धुंआ निकलेगा वो मच्छरों को मार देगा.

Advertisement
Loading...

नीम वा केरोसीन लैंप:

नीम वा केरोसीन एक लैंप इसमें काफी फायदेमंद हैं, एक लैंप में केरोसीन डालिये और उसमे ३० बूंदे नीम की मिलाइये, दो टिक्की कपूर ले कर इसमें नारियल के तेल के साथ पीसकर इस मिश्रण को घोल दीजिये, इको जलाने से मच्छर भाग जाते हैं, जब तक यह लैंप जलती रहती हैं मच्छर नहीं आते हैं.

लहसुन का सेवन:

दो चार लहसुन की कालिया चबा लेने से आपके पास मच्छर नहीं आएंगे.

सरसो का तेल:

सरसो के तेल के कई फायदे होते हैं यह तो हम सभी जानते हैं इसी प्रकार अगर आप सरसो का तेल अपने पूरे बदन पर लगाएंगे तो आपको मच्छर नहीं काटेंगे, यह बहुत ही आसान और असरदार घरेलू नुस्खा हैं.

नीम के पत्तियां:

नीम की पत्तियों को ले कर उसे जालाये, इससे जो धुंआ निकलेगा उससे माछकेह्र भाग जाएंगे.

लौंग का तेल:

लौंग के तेल को ले कर, उसमे थोड़ा सा नारियल तेल मिलाकर लगाए, इससे आपको मच्छर नहीं काटेंगे यह बिलकुल ओडोमास की तरह काम करेगा, ओडोमास के इस्तेमाल से तो स्किन को प्रॉब्लम हो सकती हैं, लेकिन इसके इस्तेमाल से आपको किसी प्र्रकार का नुक्सान नहीं पहुँचेगा.

सोयाबीन का तेल:

सोयाबीन के तेल से बॉडी पर हलकी मसाज करे इससे मच्छर दूर भागेंगे, इसके अलावा यूकिलिप्टस का तेल भी आप[के लिए फायदेमंद साबित हो सकता हैं.

गेंदे का फूल:

गेंदे का फूल जितना आपके मन को तरोताज़ा रखता हैं, उतना ही यह आपके घर के लिए भी अच्छा होता हैं, अपने बगीचे में या अपने घर में इसका पौधा लगाने से मच्छर नहीं आएंगे.

कुछ और उपाय:

इसके अलावा आप काली मिर्च के एरोमा वाले तेल का इस्तेमाल भी कार्स एक्ट नहीं.

मच्छर मारने के लिए जो बैट आता हैं उसका भी इस्तेमाल किया जा सकता हैं.

मक्वछछरदानी का उपयोग भी आप कर सकते हैं.

मॉसक्विटो किलर लैंप या मशीन का इस्तेमाल भी आप कर सकते हैं.

इस प्रकार इन नुस्खों का उपयोग कर के आप अपने घर से मच्छरों को भगा सकते हैं.

here we are discussing about what are the disadvantages of using mosquitoes repellent and coil, and home remedies to kill mosquitoes

web-title: disadvanatages of using mosquito repellent and coil

keywords: mosquito repellent, coil, disadvantages, tips, home, remedies for mosquito killing

Advertisement
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here