SHARE

महिलाओं में शराब पीने का चलन काफी तेजी से बढ़ गया है, पहले तो पुरुष ही केवल शराब पीते थे, लेकिन आज कल की इतनी मॉडर्न लाइफ में महिलाये भी इसमें बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने लगी हैं, शराब पीना आज के दौर में स्टेटस सिंबल बन गया हैं जिसके कारण आज चाहे महिला हो या पुरुष कोई भी इस आदत से अछूता नहीं हैं, लेकिन उन महिलाओं को अब थोड़ा सतर्क हो जाना चाहिए क्यों कि एक नए शोध में पता चला है कि रोजाना थोड़ी मात्रा में भी शराब पीने से स्तन कैंसर का खतरा काफी बढ़ जाता है.

क्या होता हैं स्तन कैंसर:

विशेषज्ञों कि माने तो कैंसर के जितने भी प्रारूप है उनमे सबसे ज़्यादा स्तन कैंसर पाया जाता है, अधिकतर महिलाओं कि मौत स्तन कैंसर के कारण होती है और इस बिमारी का देर से पता चलना ही इस बिमारी को जानलेवा बनाता है. स्तन कैंसर से बचने का सबसे अच्छा उपाय यही है कि इसका सही समय पर पता लगाया जाये. यह स्तन के ऊतकों में शुरू होने वाला एक घातक ट्यूमर है. और यह पुरुषो में भी पाया जा सकता है.

इस प्रकार महिलाओ में इसकी होने की संभावना दिन प्रीतिदिन बढ़ती जा रही हैं जिसके चलते महिलाओ में स्तन कैंसर द्वारा मारने की तादाद भी बढ़ी हैं, स्तन कैंसर होने के मुख्या कारण हैं, आनुवंशिकता, शराब जैसे पेय पदार्थो का रोज़ाना सेवन, खराब जीवनशैली, आदि के कारण महिलाओ में स्तन कैंसर होए की संभावना बढ़ जाती हैं.

screenshot_6

स्तन कैंसर होने का मुख्या कारण:

महिलाओ में शराब की आदत बना रही हैं उन्हें इस भयानक बिमारी का शिकार, एक शोध के अनुसार दुनिया भर में कैंसर से होने वाली मौतों में 4 से 30 फ़ीसदी मौतें शराब के सेवन के कारण होती हैं, स्तन कैंसर में तो ये मामला 8 फ़ीसदी है. प्रतिदिन एक पेग लेने से स्तन कैंसर का ख़तरा 4 फ़ीसदी बढ़ता है जबकि ज़्यादा सेवन से ये ख़तरा 40 से 50 फ़ीसदी तक बढ़ जाता है. अब इन्ही आंकड़ो से समझ लें की किस प्रकार शराब महिलाओ में स्तन कैंसर होने के खतरे को दिन पर दिन बढ़ा रहा हैं.

किस प्रकार शराब बढ़ाता हैं महिलाओ में स्तन कैंसर का खतरा:

स्तन कैंसर, स्तन में होने वाले घातक ट्यूमर को बोलते हैं जिसमे इनमे पाए जाने वाले उत्तको में दिन प्रीतिदिन तेज़ी से बढ़ोत्तरी होने लगती हैं और वो ट्यूमर का रूप ले लेते हैं ,जो कैंसर में तब्दील हो जाता हैं. एक शोध के बाद हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और बोस्टन के ब्रिघम एंड वीमेन हॉस्पिटल के वैज्ञानिकों के मुताबिक, शराब महिला के सेक्स हार्मोन ओस्टेजोन के स्तर को बढ़ा देती है जिसके बारे में माना जाता है कि यह स्तन कैंसर का कारण बनने वाले ट्यूमर को उत्पन्न करता है, जो महिलाओ में इस खतरे को तेज़ी से बढ़ाता हैं.

इस प्रकार घर बैठे पता लगाए स्तन कैंसर का:

हाल ही में हुए अध्यन में पता चला है कि दुनिया भर में 80 से 90 प्रतिशत मरीज़ अपने आप ही इसकी जांच कर सकते है. महिलाए अपने हाथ से छूकर स्तन में किसी गांठ का पता लगा सकती है, और यदि कोई गांठ जैसे चीज़ महसूस करे तो अपने डॉक्टर कि मदद ले सकती है. फिर वो टेस्ट करवा कर इसकी पुष्टि कर सकते हैं.

स्तन कैंसर के लक्षण:

स्तन या बाँह के नीचे गांठ होना
स्तन से रस जैसे कुछ पदार्थ का निकलते रहना.
निपल्स का मुड़ जाना या उनका अकार खराब हो जाना.
स्तन में सूजन बने रहना.
स्तन के आकार में बदलाव आना.
स्तन को दबाने पर दर्द ना होना.

स्तन कैंसर को रोकने के उपाय:

ज़्यादा मात्रा में ध्रूमपान का सेवन ना करें, शराब का सेवन बिलकुल छोड़ दें.
शारीरिक रूप से ज़्यादा सक्रिय हो, व्यायाम आदि नियमित रूप से करें और विषैले पदार्थो से दूरी बना कर रखे.
कम मात्रा में रेड मीट का सेवन करें, वाइट मीट का सेवन करे.
नमक का सेवन कम करें, ज़्यादा नमक खाने से बचे.
सूर्य के तेज किरणों के प्रभाव से बचें, ज़ायद देर तक धुप में ना रहे.
गर्भनिरोधक गोलियों का लगातार सेवन ना करे और इसका सेवन डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही करें
इन बातों का ध्यान रखें जो की स्तन कैंसर को कम करते हैं.

consumption of alcohol increases the risk of breast cancer, this is true if you consume alcohol in a daily basis this will happen to you

web-title: consumption of alcohol increases the risk of breast cancer

keywords: alcohol and breast cancer connection, symptoms, causes, remedies

ईलाज की एंड्राइड एप्स इनस्टॉल करें-क्लिक करें
सेक्स सम्बन्धी समस्याओं का हल जानने के लिए यहाँ क्लिक करें
Facebook Comment