SHARE

गंजापन की स्थिति में सिर के बाल बहुत कम रह जाते हैं गंजापन की मात्रा कम या अधिक हो सकती है और यह स्थिति मर्द या औरत किसी के भी साथ हो सकती है, गंजापन को एलोपेसिया भी कहते हैं. जब असामान्य रूप से बहुत तेजी से बाल झड़ने लगते हैं तो नये बाल उतनी तेजी से नहीं उग पाते या फिर वे पहले के बाल से अधिक पतले या कमजोर उगते हैं. असीमित रूप से झड़ने के कारण बहुत व्यक्ति परेशान हो जाता है हद तो तब हो जाती है जब कोई व्यक्ति 23 की आयु में ही 42 साल का दिखाई देता है.

ऐसे में मर्दो का आत्मविश्वास कम हो जाता है जिस कारण वो कोई भी काम सही तरीके से नही कर पाते साथ-साथ वो कही बहर भी नही निकल पाते अगर कोई कम उम्र का व्यक्ति हो जिसके बाल झड़ रहे हो तो छोटे बच्चे उनको अंकल भी बोलते है अगर आपके खानपान में प्रोटीन की कमी है तो इससे बालों का झड़ना शुरू होगा और आपको गंजेपन का ख़तरा हो सकता है.हमारे लगभग 50 से 100 बाल हर दिन टूटते-झड़ते हैं यदि इससे ज्यादा बाल झड़ते हैं, तो यह गंजेपन का विषय हो सकता है अधिक लोगो के बाल तनाव और परेशानी से भी झड़ते है.

गंजापन के प्रकार :

एंड्रोजेनिक एलोपेसिया
यह सर्वाधिक आम है और महिलाओ से ज्यादा पुरुषों को होता है इसीलिए इसे पुरुषों का गंजापन भी कहा जाता है यह स्थायी किस्म का गंजापन है और एक खास ढंग से खोपड़ी पर उभरता है यह कनपटी और सिर के ऊपरी हिस्से से शुरू होकर पीछे की ओर बढ़ता है यह जवानी के बाद किसी भी उम्र में शरू हो सकता है और व्यक्ति को आंशिक रूप से या पूरी तरह गंजा कर सकता है इस किस्म के गंजेपन के लिए मुख्यत टेस्टोस्टेरॉन नामक हारमोन संबंधी बदलाव और आनुवंशिकता जिम्मेदार होती है.

एलोपेसिया एरीटा
इसमें सिर के अलग-अलग हिस्सों में जहां-तहां के बाल गिर जाते हैं, जिससे सिर पर गंजेपन का पैच लगा सा दिखता है इसकी वजह अब तक अनजानी है, पर माना जाता है कि यह शरीर की रोगप्रतिरोधी शक्ति कम होने के कारण होता है.

ट्रैक्शन एलोपेसिया
यह लंबे समय तक एक ही ढंग से बाल के खिंचे रहने के कारण होता है जैसे, कोई खास तरह से हेयरस्टाइल या चोटी रखना लेकिन हेयरस्टाइल बदल देने यानी बाल के खिंचाव को खत्म कर देने के बाद इसमें बालों का झड़ना रुक जाता है.

गंजेपन के कारण :

गंजेपन के मुख्य कारणों में से एक हॉर्मोन की समस्या है पुरुषों का टेस्टोस्टेरोन अल्फा रेडक्टेस एंजाइम की मदद से डी हाइड्रो टेस्टोस्टेरोन में परिवर्तित हो जाता है और बाल झड़ने लगते हैं.

  • आनुवंशिक कारणों या उम्र बढ़ने से भी बाल झड़ने लगते हैं.
  • हारमोन में परिवर्तन से भी बाल झड़ने लगते हैं.
  • गंभीर रूप से बीमार पड़ने या बुखार होने से भी बाल झड़ने लगते हैं.
  • किसी खास चिकित्सीय कारण, जैसे कैंसर केमोथेरेपी या अत्यधिक विटामिन ए की वजह से भी बाल झड़ने लगते हैं.
  • भावनात्मक या शारीरिक तनाव की वजह से भी बाल झड़ने लगते हैं.
  • एक खास ढंग से बाल को लंबे समय तक खींचे रखने से भी बाल कम होते हैं भी बाल झड़ने लगते हैं.
गंजे सिर में बाल उगाने के तरीके:
  • बाल गिरने को रोकने के लिए सिर पर हरी धनिया को पीस्कर से रोज मालिश करें.
  • सूखे आंवले का पाउडर तैयार करें और नारियल तेल और चमेली के तेल के साथ मिश्रण बनायें गंजापन रोकने के लिए धीरे धीरे अपने सिर पर इस तेल कि मालिस करें
  • गंजापन रोकने के लिए गोभी के 30-50 ग्राम पत्ते रोजाना खाओ आप सलाद के रूप में भी गोभी का उपयोग कर सकते हैं.
  • बरगद की जटाओं का पाउडर तैयार करें और नींबू के साथ मिश्रण बनायें इस मिश्रण के साथ सिर धोने के बाद गंजापन रोकने के लिए नारियल तेल से सिर की मालिश करें.
  • अनार बीज, पत्ते और बाहरी छिलका पीस लें और फिर सरसों तेल के साथ पकाएं इस मिश्रण को निथार कर तेल के रूप में एक दिन मे 2-3 बार बालों की मालिश करें.
  • मेहँदी को भी एक प्राकृतिक बाल डाई के रूप में उपयोग कर सकते हैं यह आपके बालों को मजबूत बनाने और बाल गिरने की परेशानी दूर करती है.
  • पीला ततैया खाली घोंसला 25 ग्राम और गुड़हल (हिबिस्कुस रोजा साइनेसिस) के 10-15 पत्ते लें आधा लीटर नारियल तेल में इनको मिलाएं और एक धीमी आंच पर उबालें जब पीला ततैया घोंसला काले रंग के हो जाते हैं तो मिश्रण नीचे उतार लें ठंडा होने पर इसे फिल्टर करके एक छोटी बोतल में जमा करें गंजापन का इलाज करने के लिए सिर पर इस तेल से रोज़ मालिश करें इससे सिर पर फिर से बालों को उगने में मदद मिलेगी.
    screenshot_15
बाल वृद्धि के आयुर्वेदिक घरेलू उपचार :

बालों के लिए आमला सोने से पहले रात में ठंडे पानी से आधा चम्मच ले, आंवला पाउडर या सूखा आंवला रात को पानी मॆं भिगो दें और सुबह में यह आमला पानी का उपयोग सिर धोने मे करें मजबूत, लंबे और रेशमी बाल पाने के लिए इस आमला पानी के घोल को सिर धोने में प्रयोग करें आप आमले के साथ शिकाकाई और रीठा भी उपयोग कर सकते हैं ये आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के पानी का घोल बाल विकास के लिए बहुत प्रभावी है और यह भी बाल गिरने या रूसी जेसे बालों के रोगों से छुटकारा दिलाता है.

शिकाकाई एक अच्छा कंडीशनर और क्लेअंजर है यह कई रूसी नाशक शैंपू की तैयारी में प्रयोग किया जाता है रीठा भी शिकाकाई की तरह समान गुण होने से कंडीशनर और क्लेअंजर के रूप में प्रयोग किया जाता है रीठा के प्रयोग से भी बाल चमकदार और रेशमी बनते हैं.

मेहँदी भी बाल मजबूत बनाने और डाई करने के लिये इस्तेमाल कि जाती है यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है और बाल डाई करने के लिए हरी पत्तियों का उपयोग करें.

नारियल तेल भी बालों के विकास के लिए अच्छा है आप सरसों का तेल, बादाम का तेल और तिल का तेल भी बालों को प्रकृति के अनुसार का उपयोग कर सकते हैं.

बालों की मालिश या सिर की मालिश भी खोपड़ी और बालों के लिए बहुत फायदेमंद है आप लगभग एक सप्ताह में एक बार बालों की मालिश जरूर करें यदि रोज कर सके तो और भी अच्छा रहेगा.

विभिन्न साबुन और शैंपू का प्रयोग से बचें क्योंकि वे हानिकारक रसायन होते हैं यदि आप बालों को धोने के लिए शैम्पू का उपयोग करना चाहते हैं, तो बालों के लिए अच्छा ब्रांड का शैम्पू इस्तेमाल करें.

आमला, शिकाकाई, रीठा और दूसरों सीधे प्रकृति से उपलब्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां बाल विकास के लिए आयुर्वेदिक घरेलू उपचार में प्रयोग की जाती हैं रात में इन जड़ी बूटियों को पानी में भिगों दे और सुबह इस जड़ी बूटियों के पानी का उपयोग करें अगले उपयोग के लिए जड़ी बूटियों के ठोस भाग को निकाल ले और फिर दोबारा भिगोकर उपयोग करें और जब इन जड़ी बूटियों का प्रभाव पूरी तरह से समाप्त हो जाये तो आप इन्हे निकालकर फेंक दे और नई जड़ी बूटियों को प्रयोग करे.

बालो को झड़ने से रोकने के प्राकृतिक उपचार :

फलों और सब्जियों को अपनाये
फल और सब्जियाँ हमारे सेहत के लिए कितना फायदेमंद होती है यह तो आपको पता ही होगा बचपन से हम फलों और सब्जियों के फायदे के बारे में सुनते आ रहे है बालो के बढ़ने और मजबूत बनाने के लिए प्रोटीन, मिनरल्स और विटामिन की आवश्यकता होती है. जो हमें फलों व सब्जियों में बड़ी आसानी से मिल सकते है.

गरम पानी से रखे बालों को दूर
नहाते वक्त या बाल धोते समय बालो पर कभी भी बहुत अधिक गरम पानी का उपयोग न करे अधिक गरम पानी से बाल कमजोर और नाजुक बन जाते है नहाते वक्त सिर्फ ठन्डे या हल्के गुनगुने पानी का प्रयोग करे ऐसा करने से आपके बालों पर ज्यादा जोर नहीं पड़ेगा जिस कारण वे मजबूत बने रहेंगे और गिरेंगे नहीं.

नारियल के तेल का करे प्रयोग
बालों को सेहतमंद व मजबूत रखने के लिए आप नारियल का भी उपयोग कर सकते है नारियल का इस्तिमाल बहुत ही फ़ायदा देता है आप अपने बालों के प्रोटीन के लिए नारियल तेल को इस्तिमाल कर सकते है लगातार नारियल तेल का उपयोग हमारे बालों को मुलायम, चमकीला व सेहतमंद बना देता है.

आंवले का करे प्रयोग
आंवला हमारे शरीर में “विटामिन सी” की कमी को पूरा करता है यह आंवला हमारे बालों को भी चमकदार और मजबूत बनाता है तथा बालों को काले रखने में बहुत हेल्प करता है आप आंवले का तेल बालों के लिए इस्तिमाल कर सकते है और आंवले को खाया भी जा सकता है आंवले का लगातार प्रयोग आपके बालों में बहुत ही हेल्थी चेंजेस कर देगा जिससे आपके बाल कमजोर नहीं होंगे और बाल को एक नयी चमक भी मिलेगी.

संतुलित और पौष्टिक आहार अवश्य ले
भोजन हमारे अच्छे स्वास्थ्य की प्रमुख कड़ी है अपने बालों को उचित आहार देने के लिए आप प्रोटीन, मिनरल्स और विटामिन का उपयोग कर सकते है आप मांसाहारी भोजन, सोया, शकरकंद, अंकुरित अन्न, मूंग, दूध, मूंगफली या चना का उपयोग कर सकते है अगर आपका आहार अच्छा होगा तो आपके बाल भी इससे स्वस्थ रहेंगे, अच्छा आहार आपके बालों को बढ़ाने में, मजबूती देने में और झड़ने से रोकता है.

In this article we are talking about all the natural treatment for baldness and also here are some magical home remedies that will give you good result

web- title: home and natural remedies for baldness

keywords: baldness, types,  home, natural, remedies

ईलाज की एंड्राइड एप्स इनस्टॉल करें-क्लिक करें
सेक्स सम्बन्धी समस्याओं का हल जानने के लिए यहाँ क्लिक करें
Facebook Comment