SHARE

घरेलू उपयो के कोई साइड इफेक्‍ट नहीं होते और आप आसानी से इनका प्रयोग कर सकते हैं. घरेलू नुस्खे / होम रेमेडीज़ का प्रयोग सिर्फ बीमारियों में ही नहीं, बल्कि अच्‍छी सेहत के लिए भी किया जाता है. त्‍वचा की देखभाल से लेकर बालों की देखभाल तक के लिए घरेलू नुस्‍खे अपनाये जाते हैं.
घरेलू नुस्खों से कई प्रकार के रोगों को दूर किया जा सकता हैं. सालो से हम दादीमा के घरेलू नुस्खों के बारे में सुनते आ रहे हैं. यह वही नुस्खे हैं जिनसे कई प्रकार की जटिलसे जटिल बीमारियों को दूर किया जा सकता हैं. मार्किट के प्रोडक्ट्स से कई प्रकार के नुक्सान हो सकता हैं कई तरह के साइड इफेक्ट्स होते हैं. इसलये आज कई लोग घरेलो उपाय अपनाना पसंद करते हैं.

अनेक बीमारियों का इलाज घरेलू उपयो से हैं आसान:

कई बिमारियों का इलाज घरेलू उपयो से किया जा सकता हैं. जिनके बारे में हम आज आपको बताने वाले हैं.जो इस प्रकार हैं.

घरेलू उपायो से पाए थायराइड से छुटकारा:

सुबह खाली पेट लौकी का जूस पिए, घर में ही गेंहू के जवारों का जूस निकाल कर पिए, इसके बाद एक गिलास पानी में हर रोज़ ३० मिली एलो वेरा जूस और २ बूँद तुलसी की डाल कर पिए, एलो वेरा जूस आपको किसी बढ़िया कंपनी का यूज़ करना होगा, जिसमे फाइबर ज़्यादा हो, सिर्फ कोरा पानी ना हो बाजार से आज कल पांच तुलसी बहुत आ रही हैं, किसी बढ़िया कंपनी की आर्गेनिक पांच तुलसी ले ये सब करने के आधे घंटे तक कुछ भी न खाए पिए, इस समय में आप प्राणायाम करे.

हार्ट फ़ैल होने से बचने के घरेलू उपाय:

  • पानी में नींबू का रस मिलाकर रोज पीए.
  • फलों में अमरूद, अन्नास, मौसमी, लीची और सेब का इस्तेमाल करें.
  • सब्जियों में अरबी और चौलाई जरूर खाएं.
  • खाने में दही जरूर खाये.
  • दिल को मजबूत करने के लिए देसी घी में गुड़ मिलाकर खाएं.

मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए कुछ घरेलू उपाय:

करेला: करेले में ग्लूकोस की मात्रा ना के बराबर होती हैं. मधुमेह के रोगियों के लिए करेला कहना या करेले का जूस पीना बहुत फायदेमंद होता हैं. करेला इन्सुलिन की मात्रा को बढाता हैं और मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करता हैं.
आम: आम के १०-१२ पत्तो को रात में पानी में भिगो कर रख दे और सुबह उठ कर इसे छान के खाली पेट पी लें. आम भी मधुमेह को नियंत्रित करने में सहायता करता हैं.
तुलसी: तुलसी में ब्लड शुगर को काम करने की क्षमता होती हैं इसलके रास को निकाल ले और सुबह निहार मुह इसके सेवन करने से ब्लड में शुगर काम होता हैं
नीम: 50 ग्राम नीम की पत्ती को लेकर उसे 100ml पानी के साथ पीस ले और इसे रोज़ सुबह निहारमुह पीने से मधुमेह नियंत्रित होती हैं. नीम ब्लड को साफ़ करने के लिए अत्यंत उपयुक्त मानी जाती हैं

अस्थमा से निपटने के घरेलू उपचार:
अजवाइन
आधा कप अजवाइन का रस और इसमें उतनी ही मात्रा में पानी मिलाकर सुबह और शाम भोजन के बाद लेने से अस्‍थमा नष्ट हो जाता है. अस्‍थमा से बचाव के लिए अजवाइन के पानी से भाप लेना भी फायदेमंद होता है. इसके लिए पानी में अजवाइन डालकर इसे उबालें और पानी से उठती हुई भाप को लें. इससे श्वास-कष्ट में तुरंत राहत मिलती है.

शहद
शहद को अस्‍थमा में काफी लाभदायक माना जाता है. शहद बलगम को ठीक करता है, जो अस्‍थमा की परेशानी पैदा करता है. अस्‍थमा का अटैक आने पर शहद को सूंघने से भी लाभ मिलता है.

screenshot_7

ऑयली त्वचा के लिए घरेलू नुस्खे:

खूबसूरत दिखना सबकी चाहत होती है. और बाजार हमारी इस चाहत को पूरा करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहता. ऐसे कई उत्‍पाद हैं जो आपको कम समय में अधिक खूबसूरती देने का दावा करते हैं. स्‍पा ट्रीटमेंट से लेकर कास्‍मेटिक तक कई विकल्‍प मौजूद हैं, जो आपका रूप निखाने का दावा करते हैं.लेकिन, अकसर महंगे सौंदर्य उत्‍पादों में छुपे नुकसानों के बारे में हम विचार नहीं करते. इसके लिए घरेलू नुस्खे सबसे उपयुक्त होते हैं. जो की इस प्रकार हैं.

  • दही में काली मिर्च पाउडर का मिश्रण करे ब्‍लैक हैड्स का इलाज.
  • बालों के लिए दही बहुत अच्‍छा कंडीशनर साबित होता है.
  • टमाटर और दूध मिलाकर लगाने से क्‍लींजर का काम करता है.अण्डे से               निखारें चेहरा.
  • जूस से निखरे रूप.

अर्थराइटिस के उपचार के लिए असरदार हर्ब्स:
सौंठ एक बहुत उपयोगी घरेलू औषधि है। दरअसल सौंठ अदरक का ही एक रूप है, अदरक को सुखाकर सौंठ बनाई जाती है. सौंठ का सेवन करने से गठिया के रोग में आराम मिलता है, इसे आप किसी भी रूप में पकाकर या किसी चीज में मिलाकर खा सकते हैं. ये थोड़ी तीखी होती है लेकिन अर्थराइटिस के मरीजों को इसके नियमित सेवन से काफी लाभ मिलता है.

लीवर के लिए घरेलू उपाय:
कई चीजें जैसे वायरस, दवाएं, आनुवांशिक रोग और शराब लिवर को नुकसान पहुंचाने लगती है। लेकिन यहां दिये उपायों को अपनाकर आप अपने लीवर को मजबूत और बीमारियों से दूर रख सकते हैं.
हल्‍दी लीवर के स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार करने के लिए अत्‍यंत उपयोगी होती है। इसमें एंटीसेप्टिक गुण मौजूद होते है और एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करती है. हल्‍दी को अपने खाने में शामिल करें या रात को सोने से पहले एक गिलास दूध में थोड़ी सी हल्दी मिलाकर पिएं.
पपीता लीवर की बीमारियों के लिए सबसे सुरक्षित प्राकृतिक उपचार में से एक है.

कैंसर का इलाज:
आंतो का कैंसर, ब्लड कैंसर, थ्रोट कैंसर में ये घरेलो उपाय अत्यंत लाभदायक हैं. इसके लिए कलौंजी के तेल को अंगूर के जूस में आधा चम्मच कलौंजी का तेल दिन में तीन बार पीने से नाश्ते के समय दिन के खाने के समय और रात में खाने के बाद पीनस से आराम मिलता हैं ये नुस्खा पूरे ४० दिनों के लिए होता हैं.

डार्क सर्कल से निजात दिलाएंगे ये घरेलू नुस्खे:
यह बहुत ही असरकारी नुस्खा हैं, रात में सोने से पहले चेहरा को अच्छे से साफ करे, इसके बाद आलू की पतली स्लाइस काटकर उन्हें आंखों पर 20 से 25 मिनट रखें. इसके बाद चेहरा को अच्छे से साफ कर लें.
गुलाब जल की मदद से डार्क सर्कल की समस्या से निजात पा सकते हैं, बंद आंखों पर गुलाब जल में भिगोई हुई रूई को आंखों पर रखें, ऐसा केवल 10 मिनट तक करें, ऐसा करने से आंखों के आस पास की त्‍वचा चमक उठेगी.

इसके अलावा ये घरेलू नुस्खे और बीमारी के लिए भी असरदार होते हैं और न इनका कोई नहीं साइड इफ़ेक्ट होता हैं.

Web-Title : home remedies means miracle in life.

Keywords : home, remedy, thyroid, diabetes, cancer, skin, asthma, heart, disease.

ईलाज की एंड्राइड एप्स इनस्टॉल करें-क्लिक करें
सेक्स सम्बन्धी समस्याओं का हल जानने के लिए यहाँ क्लिक करें
Facebook Comment